इंडियन आर्मी में हैं करियर के बहुत सारे रास्ते

एनडीए, सीडीएस के अलावा भी आर्मी में एंट्री के कई प्लेटफार्म हैं। आइये जानते हैं भारतीय सेना की कुछ ऐसे ही ऑफबीट फ़ील्ड्स के बारे में, जहाँ स्टूडेंट्स के लिए हैं बेहतर मौके।

अगर आपमें जोश, जज्बा और देश के लिए कुछ कर गुजरने की तमन्ना है, तो भारतीय सेना से बेहतर करियर विकल्प, आपके लिए कुछ और नहीं हो सकता। अगर आर्मी में करियर बनाना चाहते हैं, तो 10वीं, 12वीं के बाद नॉन-टेक्निकल और टेक्निकल के साथ एनडीए, सीडीएस के जरिये एंट्री ले सकते हैं।

हालांकि आर्मी में कई ऐसी ऑफबीट फ़ील्ड्स भी हैं, जहाँ करियर के बेहतरीन अवसर हैं। कॉम्बैट फ्रंट के अलावा, इंजीनियरिंग, मेडिकल, लॉ प्रोफेशनल्स के साथ सामान्य ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट जैसे नॉन-टेक्निकल डिग्री धारी युवाओं के लिए काफी बेहतर अवसर उपलब्ध हैं। इनसे जुड़कर युवा देश सेवा के साथ-साथ प्रतिष्ठित नौकरी और शानदार भविष्य का निर्माण कर सकते हैं।



इंजीनियर्स के लिए अवसर

इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने वाले स्टूडेंट्स टीजीसी, शार्ट सर्विस (टेक्निकल) और यूनिवर्सिटी एंट्री स्कीम के जरिये आर्मी ऑफिसर बन अपने टेक्निकल नॉलेज का बेहतर इस्तेमाल कर सकते हैं।

टीजीसी इंजीनियर्स

बीई या बीटेक डिग्री ले चुके 20 से 27 साल के युवा अपनी टेक्निकल स्किल्स के बल पर देश सेवा करने के लिए आर्मी में टेक्निकल ग्रेजुएट कमीशन (टीजीसी) से जुड़ सकते हैं। इसके लिए वर्ष में दो बार अक्टूबर-नवम्बर और अप्रैल-मई में नोटीफिकेशन जारी किया जाता है। सिलेक्शन के बाद इंडियन मिलिट्री अकादमी (आईएमए) में एक वर्ष का प्रशिक्षण दिया जाता है और फिर आर्मी में स्थायी नियुक्ति मिलती है।

शार्ट सर्विस (टेक्निकल)

इंजीनियरिंग की किसी भी ब्रांच में डिग्री हासिल करने वाले शार्ट सर्विस (टेक्निकल) के माध्यम से सेना से जुड़ सकते हैं। इसके लिए अधिकतम आयु 27 वर्ष होनी चाहिए। आवेदन प्रक्रिया नवम्बर से जनवरी और मई से जुलाई के बीच होती है। सिलेक्शन के बाद उम्मीदवारों को ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी (ओटीए) चेन्नई में 49 सप्ताह की ट्रेनिंग दी जाती है।

यूनिवर्सिटी एंट्री स्कीम

इंजीनियरिंग – प्री फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स यूनिवर्सिटी एंट्री स्कीम के जरिये आर्मी में आवेदन कर सकते हैं। यूनिवर्सिटी एंट्री स्कीम (यूईएस) के तहत आर्मी में शामिल होने के लिए कम से कम 19 साल और अधिक से अधिक 25 साल होना चाहिए। यूईएस में चयनित युवाओं को आईएमए देहरादून में प्रशिक्षण दिया जाता है।

टीजीएस एजुकेशन (एईसी)

शिक्षा में रूचि रखने वाले युवा आर्मी में टीजीसी एजुकेशन सेक्शन को चुन सकते हैं। आर्मी में एजुकेशन के लिए बेहतर स्कोप हैं। एसएसबी के जरिये इसमें प्रवेश मिलता है। फर्स्ट या सेकंड डिवीज़न में एमए या एमएससी कर चुका 23 से 27 वर्ष का कोई भी भारतीय युवा इसमें प्रवेश ले सकता है। इसमें एंट्री के लिए भारतीय सेना की ओर से जून-जुलाई और दिसम्बर-जनवरी में आवेदन मंगाए जाते हैं। इंडियन मिलिट्री एकेडमी में इनकी ट्रेनिंग होती है और उसके बाद आर्मी में स्थायी नियुक्ति हो जाती है।

जेसीओ (रिलीजियस टीचर)

आर्मी में धार्मिक शिक्षकों की बड़े पैमाने पर नियुक्ति की जाती है। इसमें हिन्दू, मुस्लिम, सिख, बौद्ध, ईसाई आदि धर्मों के जानकर शामिल किये जाते हैं। इनका मुख्य कार्य सैनिकों में पॉजिटिव एनर्जी भरना होता है ताकि उनका मनोबल हमेशा ऊंचा बना रहे। इसके लिए किसी भी विषय में ग्रेजुएट होने के साथ-साथ सम्बंधित धर्म का अच्छा ज्ञान होना आवश्यक है।

लॉ ग्रेजुएट के लिए जेएजी मेन

अगर आप लॉ ग्रेजुएट हैं और सेना से जुड़कर देश सेवा करने की चाहत रखते हैं, तो जेएजी मेन आपके लिए सबसे उपयुक्त हो सकता है। इसके लिए 55 प्रतिशत अंको के साथ एलएलबी या एलएलएम उत्तीर्ण करना जरुरी होता है। 21 से 27 वर्ष के भारतीय युवा इसके लिए एलिजिबिल होते हैं। इसमें नियुक्ति के लिए आवेदन प्रक्रिया वर्ष में दो बार दिसम्बर-जनवरी और अप्रैल-मई में होती है। सिलेक्शन के बाद ओटीए चेन्नई में 49 सप्ताह की ट्रेनिंग दी जाती है।

एमबीए के लिए भी मौके

मैनेजमेंट की डिग्री रखने वाले युवाओं के लिए भी आर्मी में बेहतर मौके उपलब्ध हो रहे हैं। सेना के लोजिस्टिक्स सेक्शन में एमबीए डिग्रीधारियों को एंट्री दी जाती है।

जेसीओ (खानपान)

बारहवीं के बाद किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से होटल मैनेजमेंट या फ़ूड मेकिंग कोर्स में डिप्लोमा करने के बाद आप आर्मी के खानपान सेक्शन से जुड़कर अपनी पाक कला से सैन्यकर्मियों को खुश कर सकते हैं।

आर्मी के कमांडो

अगर आप आर्मी के जरिये कमांडो बनना चाहते हैं, तो सेना की इस विंग में इसके लिए भी कई मौके उपलब्ध होते हैं। एनएसजी यानी नेशनल सिक्यूरिटी गार्ड, मरीन कमांडो, बलैक कैट कमांडो जैसे देश के सबसे जांबाज कमांडो का चयन आम तौर पर थलसेना के सैनिकों के बीच से ही किया जाता है। थलसेना के चुनिन्दा जाबांज ऑफिसर्स को स्पेशल फोर्सेज के लिए चुना जाता है और उन्हें विशेष तरीके से कड़ा प्रशिक्षण देकर एनएसजी,  ब्लैक कैट कमांडो, पैरा कमांडो आदि में शामिल किया जाता है।



महिलाओं के लिए मौका

आर्डिनेंस कोर, एजुकेशन कोर, नर्सिंग, सर्विस कोर, जेएजी, सिग्नल्स, आर्मी इंटेलिजेंस और लोजिस्टिक्स में अविवाहित महिलाओं की नियुक्ति की जाती है। कुछ पदों पर सैन्य कर्मियों की विधवाओं की भी भर्ती होती है। इसके लिए समय-समय पर आर्मी की ओर से आवेदन मंगाए जाते हैं।

टेक्निकल ब्रांच

कोर ऑफ़ इलेक्ट्रिक एंड मैकेनिकल एंगिनीर्स, कोर ऑफ़ सिग्नल्स, कोर ऑफ़ इंजीनियर्स

नॉन-टेक्निकल ब्रांच

इन्फेंट्री आर्म्ड कोर, आर्टिलरी

एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज

आर्मी सर्विस कोर, आर्मी आर्डिनेंस कोर, आर्मी एजुकेशनल कोर, रिमाउंट एंड वेटेरनरी कोर, जज, अधिवक्ता, जनरल कोर, कोर ऑफ़ मिलिट्री, इंटेलिजेंस कोर, आर्मी कैंटीन सेवा, आर्मी पायोनियर कोर, डिफेन्स सिक्यूरिटी कोर

सैनिक

ट्रेडमैन सामान्य कार्य / निर्दिष्ट कार्य / नर्सिंग सहायक / लिपिक / स्टोर कीपर

आर्मी के लिए आवेदन

http://www.joinindianarmy.nic.in

http://www.indianarmy.nic.in



 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *