प्लांट ब्रीडिंग और जेनेटिक्स में उच्च शिक्षा और करियर

कृषि उत्पादन को बढ़ाने में प्लांट ब्रीडिंग की भूमिका महत्वपूर्ण है। अब इसे सरकारी संस्थानोंव्यवसायिक उद्यमों द्वारा विश्व भर में अपनाया जा रहा है। इसलिए इस फील्ड में करियर बनाने के बढ़िया अवसर सामने आते जा रहे हैं।

हमारे देश की आधी से ज्यादा जनसँख्या कृषि कार्य में संलग्न है। वर्तमान समय में हम लगभग 260 मिलियन टन खादान्य उत्पन्न करते हैं। यद्यपि यह उत्पादन वर्तमान में हमारे देश की जनसँख्या के लिए पर्याप्त है, परन्तु वर्ष 2025  तक हमारी खादान्य मांग बहुत अधिक बढ़ जाएगी क्योंकि हमारी जनसँख्या बहुत अधिक गति से बढ़ रही है।

इसलिए प्लांट ब्रीडिंग जैसी आधुनिक सोच के माध्यम से हमारे देश में फसल सुधार प्रासंगिक है। प्लांट ब्रीडिंग के मुख्य लक्ष्य पैदावार सुधार, गुणवत्ता मापदंड, बायोटिक तथा एबायोटिक रेजिस्टेंस हैं ताकि सभी अनुकूल परिवर्तनों से उत्पादन में वृद्धि हो। कृषि उत्पादन को बढाने में प्लांट ब्रीडिंग की भूमिका महत्वपूर्ण है। अब तो इसे सरकारी संस्थानों व व्यवसायिक उद्यमों द्वारा विश्व भर में अपनाया जा रहा है।



गेंहूँ, चावल की उच्च पैदावार वाली श्रेष्ठ किस्में प्लांट ब्रीडिंग की जानी मानी उपलब्धियां हैं, जिनसे हमारे देश में हरित क्रांति आई और देश खादान्य उत्पादन में आत्मनिर्भर हुआ।

जेनेटिक्स में अवसर

प्लांट ब्रीडिंग की तरह जेनेटिक्स भी एक ऐसा महत्वपूर्ण विषय है, जो जीव-जंतु तथा पेड़ पौधों की उत्पत्ति से लेकर उसके विकास और अन्य आयामों की विस्तृत व सही जानकारी देता है। मगर यह काम किसी पहेली से कम नहीं है। यदि आप इन पहेलियों को सुलझाने में गहरी रूचि रखते हैं, तो जेनेटिक्स में आप सफल करियर बना सकते हैं।

जेनेटिक्स में इंजिनियर और विज्ञानी, दो करियर रास्ते होते हैं, जिन पर आप कदम बाधा सकते हैं। इंजीनियर विभिन्न जीन के समूहों और उनके गुणों के बारे में अनुसन्धान व विश्लेषण करते हैं तथा उनका अध्ययन करते हैं।

इसके अलावा विभिन्न जीवों तथा जीवित प्रजातियों जैसे पौधों, पशु-पक्षियों एवं मनुष्यों में से अपने स्रोत ढूंढते हैं। वहीँ जेनेटिक विज्ञानी इस बात का अध्ययन करते हैं कि पीढ़ी दर पीढ़ी गुण एवं व्यवहार किस प्रकार समान होते हैं और वंशानुगत विसंगतियां कैसे व क्यों उत्पन्न होती हैं। उनके अनुसन्धान केवल विसंगतियों के कारणों को जानने तक ही सीमित नहीं होते, बल्कि संभावित बचाव के तरीके भी ढूँढने का कार्य जेनेटिक्स में होता है।

दसवीं से तैयारी शुरू

जेनेटिक्स साइंस के अध्ययन की तैयारियां दसवीं और बारहवीं स्तर से ही शुरू हो जाती हैं। बारहवीं स्तर पर विज्ञान विषयों के गहन अध्ययन के बाद जेनेटिक्स में भविष्य बनाने के लिए जरुरी है कि स्नातक स्तर पर जेनेटिक्स या बायोटेक्नोलॉजी विषय का चयन किया जाये।

ग्रेजुएशन के बाद जेनेटिक्स में विशिष्टता जैसे एमएससी या पीएचडी की उपाधि हासिल करने से जेनेटिक्स में बेहतरीन करियर की संभावनाएं निर्मित होती हैं। इसके अलावा वर्तमान समय में जेनेटिक्स विशेषज्ञों के लिए अनुसन्धान एवं विकास, शिक्षण, मार्केटिंग और उत्पादन के क्षेत्र में भी रोजगार के असीमित अवसर उपलब्ध हैं।

रोजगार की संभावनाएं

जेनेटिक्स का कोर्स करने के बाद रोजगार की बहत उज्जवल संभावनाएं मौजूद हैं। जेनेटिक्स अनुसन्धान के क्षेत्र में विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त संस्थानों में रोजगार की संभावनाएं हैं। इसके अलावा, माइक्रोबियल तकनीक संस्थान, राष्ट्रीय विज्ञान बायोकैमिकल इंजीनियरिंग अनुसन्धान व प्रक्रिया विकास केंद्र आदि कुछ सरकारी एजेंसियां हैं, जो जेनेटिक विज्ञानियों की बहुत अच्छे वेतनमान पर नियुक्ति करती हैं।



मुख्य तौर पर जेनेटिक्स विज्ञानियों के अनुसंधानों और विकसित उत्पादों का लाभ दवा कंपनियों, दवा विक्रेताओं, चिकित्सकों, अस्पतालों और क्लीनिकों को मिलता है। एक सफल जेनेटिक्स वैज्ञानिक बनने के लिए आपकी रूचि बायोलॉजी, बायोकेमिस्ट्री और विज्ञान से सम्बंधित क्षेत्रों में अनुसन्धान की होनी चाहिए।

जरुरी स्किल्स

तेज दिमाग, जिज्ञासु प्रवृत्ति, विज्ञान में गहरी रूचि, रचनात्मकता, नए तरीके ढूँढने की ललक, अंग विज्ञान की गहरी समझ तथा विश्लेषण का कौशल जेनेटिक्स में करियर बनाने के लिए आवश्यक गुण हैं। प्रयोगशाला में लगातार थका देने वाले प्रयोगों और कई बार उलझन में डाल देने वाले काम में घंटों तक लगे रहना और फिर भी सार्थक परिणाम न आने की अनिश्चितता के चलते धैर्य इस क्षेत्र में सफलता की कुंजी की तरह काम करता है। इसलिए आपका धैर्यवान होना बहुत जरुरी है।

प्रमुख संस्थान

जवाहरलाल नेहरु कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर, मध्यप्रदेश

www.jnkvv.org

आनंद कृषि विश्वविद्यालय, आनंद, गुजरात

www.aau.in

दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली

www.du.ac.in

चंद्रशेखर आज़ाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कानपुर

www.csauk.ac.in

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार

www.hau.ernet.in

डॉ पंजाबराव देशमुख कृषि विद्यापीठ, अकोला

www.pdkv.ac.in

पंजाब कृषि विश्वविद्यालय, लुधियाना

www.web.pau.edu

 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *